Wednesday, 20 July 2016

ग़ज़ल-


कभी आँगन में ग़ुरबत बोलती है
कभी सर चढके शोहरत बोलती है
अगरचे छाँव है तो धूप भी है
कई रंगों में क़ुदरत बोलती है
कोई अरमां अधूरा है तेरा क्या?
तेरे लहज़े में हसरत बोलती है
हर इक झगड़े का हल मुझ में है ढूंढो
ज़माने से मुहब्बत बोलती है
क़लम के रास्ते बदलाव लिक्खूं
लहू में अब बग़ावत बोलती है
कहीं पे रेहन रख आऊं मैं ज़ेवर
ज़ुबां चुप है, ज़रूरत बोलती है
घुटन इस शहर में बढ़ने लगी क्या
मेरे अंदर से हिज़रत बोलती है
कभी बैठो यहाँ और ख़ूब चहको
परिंदों से मेरी छत बोलती है
चलो अनमोल को मिलकर पुकारें
जिगर से आज शिद्दत बोलती है
- के. पी. अनमोल

16 जुलाई, 2016

Saturday, 9 July 2016

ग़ज़ल-


हज़ारों दर्द मेरे ढल गये अश’आर में आकर
ग़ज़ल ख़ुश हूँ बहुत ही मैं तेरे दरबार में आकर
भटकती जा रही थी ज़िंदगी अब तक अँधेरे में
मुनव्वर हो गयी राहें तुम्हारे प्यार में आकर
हवस, दादागिरी, हत्या, डकैती, रेप, ग़द्दारी
डराते हैं हमेशा ही मुझे अखबार में आकर
हमें भेजा ख़ुदा ने है यहाँ इक ख़ास मक़सद से
बताओ क्या किया तुमने भला संसार में आकर
नयी दुल्हन को सब मिलकर बराबर प्यार से सींचो
पनपते देर लगती है नए घर-बार में आकर
मुसलसल लड़ रही है नाव खुलकर आज लहरों से
हुई है आजमाइश जोश की मँझधार में आकर
इसे तो जब समंदर की हदें भी कम पड़े अनमोल
रहेगी किस तरह मछली तुम्हारे जार में आकर

- के.पी. अनमोल